blogid : 8464 postid : 49

अखिलेश यादव : एक नजर यूपी के भावी मुख्यमंत्री पर

Posted On: 14 Mar, 2012 पॉलिटिकल एक्सप्रेस में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Profile of Akhilesh Yadav

बेदाग छवि, मृदुभाषी, प्रगतिशील सोच और युवा मन अखिलेश यादव की इन्हीं खासियत ने सपा की तस्वीर बदल कर रख दी है. कहने को तो अखिलेश को उत्तर प्रदेश की गद्दी विरासत में मिली है लेकिन इसके पीछे जो मेहनत अखिलेश ने की है वह भी किसी से छुपी नहीं है. एक ऐसी पार्टी को जीत का सेहरा पहनाना जिसे एक साल पहले कोई उत्तर प्रदेश की जंग का हिस्सा भी नहीं मान रहा था वाकई गजब की बात है.


Akhilesh yadavसबको उम्मीद है कि अखिलेश यादव के राज में सपाराज “गुण्डाराज” बनने से बचेगा और राज्य में खुशहाली आएगी. कुछ लोगों का तो यह भी मानना है कि अगर समीकरण और ठोस कार्यक्रम के साथ सही दिशा में अखिलेश ने कदम बढ़ाए तो विकास की लहर गुजरात और बिहार की तरह यूपी में भी बहेगी. हालांकि यह सिर्फ अनुमान है पर इस युवा नेता के लिए कुछ भी नामुमकिन कहना सही नहीं लगता.


उत्तर प्रदेश के सबसे कम उम्र के सीएम बनने जा रहे अखिलेश की उम्र 38 साल है. 15 मार्च को जब वह मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे, उस रोज वह 38 साल आठ महीने और 14 दिन के होंगे. अखिलेश यादव की जन्म तिथि एक जुलाई 1973 है. मायावती जब पहली बार उप्र की मुख्यमंत्री बनी थीं तो उनकी उम्र 39 साल चार महीने और 18 दिन थी.


Akhilesh-wifeFamily of Akhilesh Yadav

अखिलेश यादव की साफ छवि के पीछे एक वजह उनका पारिवारिक होना भी माना जाता है. अपने पिता के सबसे करीब होने के अलावा अखिलेश एक अच्छे पति और पिता भी हैं. अखिलेश यादव की बीवी का नाम डिंपल है. दोनों की शादी को करीब 12 साल हो चुके हैं. आज दोनों के तीन बच्चे हैं – अदिति, टीना और अर्जुन.


इंजीनियरिंग में डिग्री ले चुके अखिलेश को उत्तरप्रदेश में 2012 के विधानसभा चुनावों के मद्देनजर समाजवादी पार्टी का प्रादेशिक अध्यक्ष बनाया गया. पार्टी की कमान संभालते ही उन्होंने तेज गति से अपने काम शुरू कर दिए. आइए एक नजर डालें आखिर कैसे सफल हुए अखिलेश यादव:


यूथ आईकन: इस विधानसभा चुनावों में अखिलेश यादव यूथ आईकान बनकर उभरे. छात्रों को लैपटाप व टैबलेट देने के वादे ने छात्रों और युवाओं के बीच अखिलेश यादव को ‘हीरो’ बना दिया. युवाओं को अपने साथ मिलाने के लिए टेबलेट, लैपटॉप और बेरोजगारी भत्ते जैसे लुभावने वादे घोषणापत्र में शामिल करने का विचार अखिलेश का ही था. अखिलेश ने 2007 में सपा की करारी हार से सबक लिया और चुनाव की तारीख घोषित होने से पहले वे आधे उत्तरप्रदेश का दौरा कर चुके थे.


साफ और बेदाग छवि: यूं तो उत्तर प्रदेश की जनता को दागी और बाहुबली नेताओं की आदत है पर इनके बीच अखिलेश यादव जैसे साफ छवि के नेता ने अपना असर सबसे ज्यादा छोड़ा.


साफ-सुथरी छवि, सहज अंदाज और डीपी यादव जैसे माफियाओं को पार्टी में शामिल न करने जैसे कुछ फैसलों ने उन्हें जनता का हीरो बना दिया. ऊपर से पढ़े-लिखे लोगों को टिकट देकर उन्होंने नहले पर दहला खेला.


टीम का मिला सहयोग

अखिलेश यादव ने इंजीनियरिंग की पढ़ाई की है. वह अच्छी तरह जानते हैं कि अकेले काम करने से यूपी जैसे बड़े राज्य में कोई खास फायदा नहीं होगा इसीलिए उन्होंने एक बेहतरीन टीम चुनी जिसमें अधिकतर चेहरे उनकी तरह ही नए और युवा थे. रेडियो जॉकी से लेकर प्रोफेसर तक को अपनी कोर टीम में जगह देकर उन्होंने अपनी जीत को सुनिश्चित किया.


आनंद भदौरिया, संजय लाठर, नावेद सिद्दीकी, अभिषेक मिश्र और सुनील यादव ‘साजन’ जैसे उच्च शिक्षा प्राप्त और कर्मठ लोगों को अपने साथ मिलाकर उन्होंने जनता को अपने शासन में सुशासन लाने का पैगाम दिया जिसे जनता ने कबूल भी किया. अब देखना यह है कि क्या अखिलेश यादव जनता की कसौटी पर खरे उतरते हैं या जल्द ही अखिलेश यादव का कोई दूसरा चेहरा लोगों के सामने आएगा जिसकी दबी जुबां में सब चर्चा कर रहे हैं.


Read Hindi News

| NEXT



Tags:                           

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

12 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Brenley के द्वारा
July 11, 2016

Shelly Guzman – Wow I love ‘Janelle & Trs72an&#8t1i;! The graffiti is awesome. Can’t wait until I get engaged and can have you take our photos too You continue to grow your talent in amazing ways, Andria. I am always looking forward to your next post.

cheenu choudhary के द्वारा
January 9, 2015

akhilesh g ke srkar bhot ache srkar h unhone ladkiyo k liye bhot kuch kiya h agar u.p me rap ho rhe h to kya rap karne wale akhilesh g se ijajat lekar rap kar rhe h akhilesh srkar ko jimmedar thrana glat h kon sa state h jisme rap nhe ho rhe

    Susannah के द्वारा
    July 11, 2016

    Quite insfuhtigl submit. Never believed that it was this simple after all. I had spent a great deal of my time looking for someone to explain this subject clearly and you

nahush tripathi के द्वारा
September 22, 2014

sir….       सर नमस्कार मै नहुष त्रिपाठी सर आप से निवेदन है की अपने प्रदेश के बारे में कुछ ऐसी नीति बनाये की हमारा प्रदेश सब प्रदेश से आगे जाये और आप कम से कम दस बार मुख्य मंत्री बने

    veer pratap yadav के द्वारा
    November 22, 2015

    pagal hue ka re sare

    Marsue के द्वारा
    July 11, 2016

    Critidos26 février 20obnlaqu1;&&2sp;Marie Curie, petite main de son illustre mari. »Soit on t’as menti dans ta jeunesse, soit tu es un vilain petit raciste.

ravi yadav के द्वारा
May 29, 2014

akhilesh ji mera naan ravindra singh yadav hai..main aap se ye janna chahata hu ki aap k sarkar k rahte kya hum sab berojgar logo ko govt. job mil sakti hai. main apne ghar me akela hi hu mere pitaji nahi hai…..

    Akhilesh Yadav के द्वारा
    August 14, 2014

    Jald milegi vats. bahan maya ki saran m jao, tumhara kalyan hoga

    River के द्वारा
    July 11, 2016

    Näiden emalisten vahusten arvo riippuu tosi pitkälle kunnosta eli jos et tekisi sillä ruokaa, niin to¤tsnÃdköisenei palvelee parhaiten ruukkuna (hyvä idea btw)!

Yadav के द्वारा
December 30, 2013

Dear Akhilesh………. please kuch kam karo aap esh tarah se janta ko chotiya n banow aap apane neta aapne under rakho our unka achi tarah se mitting lo…………

    Christiana के द्वारा
    July 11, 2016

    Enjoyable puzzle today. Thanks B Dave and the other Mynserot.Fantastic day outside so I’m going for a nice long ride up the NorthEast coast to St Mary’s lighthouse and back via Seaton Delavel Hall. Tuna sandwiches all packed, see you all later.

Jagdeesh के द्वारा
March 14, 2012

देखना ही एकमात्र विकल्प है जनता के पास ।प्रतीक्षा की जानी और समय दिया जाना चाहिए ।अन्ततः आशावादी होना चाहिए ।विश्लेषक&याहू .काम ।


topic of the week



अन्य ब्लॉग

  • No Posts Found

latest from jagran