blogid : 8464 postid : 64

विपक्ष में बैठना पसंद नहीं मायावती को

Posted On: 15 Mar, 2012 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

MAYAWATI IN UTTAR PRADESH

भारतीय लोकतंत्र में कुर्सी का खेल भी अजीब होता है. अगर बहुमत मिले तो सरकार बन जाती है वरना जो कल राजा था वह सड़क पर आ जाता है. इस समय यूपी की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती जो कभी सिंहासन पर बैठती थीं उनकी हालत अब विपक्ष में बैठने की है. लेकिन मायावती ऐसी खिलाड़ी नहीं जो हारने के बाद मैदान में बनी रहें बल्कि वह तो जहां जाती है शान से रहना पसंद करती हैं और यही वजह है कि विधानसभा चुनावों में मिली करारी हार के बाद उन्होंने राज्यसभा का रुख किया है.


MAYAVATIउत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी से चुनावी जंग हार चुकी बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री मायावती का राज्यसभा में जाना अप्रत्याशित नहीं है. मायावती अपने राजनीतिक इतिहास में कभी भी विपक्ष में नहीं बैठी हैं और सत्ता छिनते ही हमेशा दिल्ली का रुख करती हैं. मायावती में एक और खासियत है कि वह विधानमंडल में बतौर मुख्यमंत्री ही हाजिर हुई हैं.


मायावती एक अलग तरह की नेता हैं. उन्होंने अपनी लगभग डेढ़ दशक की राजनीति में विधायक या विधान परिषद सदस्य की हैसियत से कभी भी विधानभवन में अपनी मौजूदगी दर्ज नहीं कराई है और न ही विपक्ष की नेता की हैसियत से सदन के अंदर कोई मुद्दा उठाया है. पहली बार 3 जून, 1995 को मुख्यमंत्री बनने के बाद से उन्होंने सिर्फ मुख्यमंत्री की हैसियत से ही सदन में प्रवेश किया है.


लखनऊ में मायावती ने मंगलवार को राज्यसभा के लिए अपना नामांकन दाखिल करने के बाद कहा कि वह बसपा नेताओं की इच्छा के सम्मान में राज्यसभा जा रही हैं. पर यह सच नहीं है, जब भी बसपा प्रमुख के हाथ से सत्ता छिनी है, वह विधानसभा या विधान परिषद की सदस्यता से इस्तीफा देकर दिल्ली कूच कर गई हैं.


Read Hindi News

| NEXT



Tags:                         

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Gatsy के द्वारा
July 11, 2016

Jen, that looks so fanasttic. I love love love fresh striped bass!Can you believe I have never tried sorrel? It’s on the short list now, for sure.


topic of the week



अन्य ब्लॉग

  • No Posts Found

latest from jagran